Connect with us

Defence News

DRDO इलेक्ट्रिक प्रोपल्शन मोटर, ली-आयन बैटरी, AIP और अन्य तकनीकों का परीक्षण करने के लिए नौसेना से KILO क्लास सबमरीन प्राप्त करेगा

Published

on

(Last Updated On: May 7, 2022)


इस उप का उपयोग 12 स्वदेशी पनडुब्बियों के विकास के लिए अगली पीढ़ी की प्रणालियों और घटकों के विकास के लिए एक शोध पोत के रूप में किया जाएगा।

नई दिल्ली: DRDO को इलेक्ट्रिक प्रोपल्शन मोटर, ली-आयन बैटरी, AIP और अन्य तकनीकों का परीक्षण करने के लिए भारतीय नौसेना से एक KILO श्रेणी की पनडुब्बी मिलेगी। इस उप का उपयोग 12 स्वदेशी पनडुब्बियों के विकास के लिए अगली पीढ़ी की प्रणालियों और घटकों के विकास के लिए एक शोध पोत के रूप में किया जाएगा। ये पनडुब्बियां 2030 के निर्माण में जाएंगी।

औपचारिकताओं को एक किलो-श्रेणी की पनडुब्बी के हस्तांतरण के लिए एक कसरत की जा रही है जिसे बैटरी प्रबंधन प्रणाली (बीएमएस) के साथ प्रोटोटाइप लिथियम-आयन बैटरी सिस्टम के परीक्षण के लिए परीक्षण मंच के रूप में उपयोग करने के लिए ड्राईडॉक किया जाएगा ताकि इसके ऊर्जा उत्पादन को मान्य किया जा सके और विभिन्न निर्वहन दर।

DRDO की AIP तकनीक एक फॉस्फोरिक एसिड फ्यूल सेल पर आधारित है जिसे पहले से ही एक भूमि-आधारित प्रोटोटाइप पर प्रदर्शित किया जा चुका है और DRDO ने नौसेना को AIP सिस्टम के लिए एक शोध पोत के रूप में इस्तेमाल करने के लिए एक किलो-श्रेणी की पनडुब्बी को ऋण देने का प्रस्ताव दिया था, लेकिन अब यह हो सकता है कई प्रणालियों के लिए पूरी तरह से एक शोध पोत के रूप में परिवर्तित किया जा सकता है। प्रणोदन प्रणाली के साथ आगे के प्रयोग के लिए स्वदेशी 5MW इलेक्ट्रिक प्रोपल्शन मोटर का उपयोग किया जा सकता है।





Source link

Continue Reading
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Copyright © 2017 राजेश सिन्हा . भारतीय वायुसेना में सेवा का अनुभव है .

%d bloggers like this: