Connect with us

Defence News

पाकिस्तान इंटरनेशनल एयरलाइंस की टोरंटो-बाउंड फ्लाइट को रूसी हवाई क्षेत्र का उपयोग करने से रोक दिया गया

Published

on

(Last Updated On: June 23, 2022)


इस्लामाबाद: स्थानीय मीडिया की रिपोर्ट के अनुसार, पाकिस्तान इंटरनेशनल एयरलाइंस को बकाया राशि का भुगतान न करने के कारण रूस से ओवरफ्लाइंग क्लीयरेंस प्राप्त करने में कठिनाइयों का सामना करने के बाद इस्लामाबाद से अपनी टोरंटो जाने वाली उड़ान को फिर से रूट करना पड़ा।

यह घटना 17 जून को हुई जब इस्लामाबाद से पीआईए की टोरंटो जाने वाली उड़ान को ओवरफ्लाइंग क्लीयरेंस नहीं मिली, 24 न्यूजएचडी टीवी चैनल ने बताया।

मीडिया आउटलेट ने उस समय कहा था कि इस्लामाबाद से टोरंटो जाने वाली पीआईए की उड़ान को पहले कराची लाया जाएगा जहां से यह रूस के बजाय यूरोपीय देशों के ऊपर से उड़ान भरकर टोरंटो पहुंचेगी। पीआईए की उड़ान पीके781 जिसमें 250 से अधिक यात्री थे, उसी दिन दोपहर में कराची से रवाना हुई थी।

स्टेट बैंक ऑफ़ पाकिस्तान (SBP) को रूस को फ़्लाइट ओवरफ़्लाइंग शुल्क के लिए धन हस्तांतरित करने में चुनौतियों का सामना करना पड़ रहा है। पीआईए के एक प्रवक्ता ने कहा, “वैश्विक प्रतिबंधों के कारण रूस को ओवरफ्लाइंग भुगतान प्राप्त करने में कठिनाइयों का सामना करना पड़ रहा है। पीआईए एक वैकल्पिक मार्ग अपनाने के लिए मजबूर है।”

उन्होंने कहा, “इस्लामाबाद से टोरंटो के लिए पीआईए की उड़ान ईरान, तुर्की और यूरोप के हवाई मार्ग का उपयोग करेगी,” उन्होंने कहा, “विमान को कराची में 17 घंटे की नॉन-स्टॉप उड़ान के लिए ईंधन भरा जाएगा।”

घटना का विवरण प्रदान करते हुए, एक खोजी पत्रकार मुबाशेर लुकमैन ने ट्विटर पर लिखा, “इस्लामाबाद से टोरंटो के लिए पीआईए की उड़ान में देरी हो रही है क्योंकि रूसी सरकार ने पीआईए से सभी बकाया राशि का भुगतान करने की मांग की है। वैकल्पिक मार्ग यूरोप है और यह एक मुद्दा भी है। उड़ानों की सामान्य स्थिति जारी रखने के लिए पीआईए को अगले दो घंटों में कुछ करना चाहिए।”

सोशल मीडिया पर यूजर्स अब पाकिस्तानी सरकार से पूछ रहे हैं कि इस ”शर्मनाक स्थिति” की वजह क्या है?

यह सब ऐसे समय में हो रहा है जब पाकिस्तान भारी आर्थिक संकट का सामना कर रहा है। इस बीच, मार्च के अंत में, विदेशी ऋण के पुनर्भुगतान के कारण, स्टेट बैंक ऑफ पाकिस्तान द्वारा आयोजित विदेशी मुद्रा भंडार में 2.915 बिलियन अमरीकी डालर की भारी गिरावट आई।

महंगाई 13.8% पर आ गई है। डॉलर के मुकाबले पाकिस्तानी रुपया पिछले एक महीने में 186 से 202 तक गिर गया।

पिछले साल, इंडेक्स प्रदाता एमएससीआई इंक ने पाकिस्तान को एक सीमांत बाजार में डाउनग्रेड कर दिया था, इसके चार साल बाद इसकी रैंकिंग एक उभरते बाजार में बढ़ा दी गई थी।

इस महीने, रेटिंग एजेंसी मूडीज ने अर्थव्यवस्था के दृष्टिकोण को ‘स्थिर’ से घटाकर ‘नकारात्मक’ कर दिया, जिसमें ‘बाहरी भेद्यता और देश की जरूरतों को पूरा करने के लिए बाहरी वित्तपोषण हासिल करने के बारे में अनिश्चितता’ का हवाला दिया गया।

जाहिर है, पाकिस्तान की चुकौती क्षमता कम हो रही है। देश नए कर्ज, चुकौती शर्तों में छूट आदि के लिए चीन से लेकर आईएमएफ तक दौड़ रहा है।





Source link

Continue Reading
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Copyright © 2017 राजेश सिन्हा . भारतीय वायुसेना में सेवा का अनुभव है .

%d bloggers like this: