Connect with us

Defence News

परम पोरुल सुपरकंप्यूटर का एनआईटी, तिरुचिरापल्ली में उद्घाटन

Published

on

(Last Updated On: May 26, 2022)


परम पोरुली कम्प्यूटेशनल अनुसंधान की सुविधा के लिए राष्ट्रीय सुपरकंप्यूटिंग मिशन के चरण -2 के तहत सुपरकंप्यूटिंग सुविधा स्थापित की गई है

परम पोरुलीराष्ट्रीय सुपरकंप्यूटिंग मिशन (NSM) के तहत राष्ट्र को समर्पित NIT तिरुचिरापल्ली में एक अत्याधुनिक सुपर कंप्यूटर – इलेक्ट्रॉनिक्स और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय (MeitY) और विज्ञान और प्रौद्योगिकी विभाग (DST) की एक संयुक्त पहल का उद्घाटन मई को किया गया। 25, 2022। परम पोरुल सुपरकंप्यूटिंग सुविधा एनएसएम के चरण -2 के तहत स्थापित की गई है, जहां इस प्रणाली को बनाने के लिए उपयोग किए जाने वाले अधिकांश घटकों को सी-डैक द्वारा विकसित एक स्वदेशी सॉफ्टवेयर स्टैक के साथ देश के भीतर निर्मित और असेंबल किया गया है। मेक इन इंडिया पहल के अनुरूप।

एनएसएम के तहत इस 838 टेराफ्लॉप्स सुपरकंप्यूटिंग सुविधा को स्थापित करने के लिए 12 अक्टूबर 2020 को एनआईटी तिरुचिरापल्ली और सेंटर फॉर डेवलपमेंट इन एडवांस्ड कंप्यूटिंग (सी-डैक) के बीच एक समझौता ज्ञापन (एमओयू) पर हस्ताक्षर किए गए। सिस्टम विभिन्न वैज्ञानिक और इंजीनियरिंग अनुप्रयोगों की कंप्यूटिंग जरूरतों को पूरा करने के लिए सीपीयू नोड्स, जीपीयू नोड्स, हाई मेमोरी नोड्स, हाई थ्रूपुट स्टोरेज और हाई परफॉर्मेंस इनफिनिबैंड इंटरकनेक्ट के मिश्रण से लैस है। PARAM PORUL प्रणाली उच्च शक्ति उपयोग प्रभावशीलता प्राप्त करने और इस तरह परिचालन लागत को कम करने के लिए डायरेक्ट कॉन्टैक्ट लिक्विड कूलिंग तकनीक पर आधारित है। शोधकर्ताओं के लाभ के लिए विभिन्न वैज्ञानिक डोमेन जैसे मौसम और जलवायु, जैव सूचना विज्ञान, कम्प्यूटेशनल रसायन विज्ञान, आणविक गतिशीलता, सामग्री विज्ञान, कम्प्यूटेशनल फ्लूड डायनेमिक्स इत्यादि से कई अनुप्रयोगों को सिस्टम पर स्थापित किया गया है। यह उच्च अंत कंप्यूटिंग प्रणाली अनुसंधान समुदाय के लिए एक महान मूल्यवर्धन होगी।

एनआईटी, तिरुचिरापल्ली स्वास्थ्य, कृषि, मौसम, वित्तीय सेवाओं जैसे सामाजिक हित के क्षेत्रों में अनुसंधान कर रहा है। एनएसएम के तहत स्थापित सुविधा इस शोध को मजबूत करेगी। नई उच्च-प्रदर्शन कम्प्यूटेशनल सुविधा शोधकर्ताओं को विज्ञान और इंजीनियरिंग के विभिन्न क्षेत्रों की बड़े पैमाने पर समस्याओं को हल करने में सहायता करेगी।

कुल गणना शक्ति का एक हिस्सा एनएसएम के अधिदेश के अनुसार नजदीकी शैक्षणिक और अनुसंधान संस्थानों के साथ भी साझा किया जाएगा। इसके अलावा, एनएसएम ने इस सुपरकंप्यूटिंग सुविधा का उपयोग करते हुए और अन्य भारतीय संस्थानों और उद्योगों के शोधकर्ताओं को शामिल करते हुए कई अनुप्रयोग अनुसंधान परियोजनाओं को प्रायोजित किया है। कुल मिलाकर, यह सुपरकंप्यूटिंग सुविधा वैश्विक सम्मान की स्थिति तक पहुंचने के लिए भारतीय शिक्षा और उद्योगों में अनुसंधान और विकास की पहल को एक बड़ा बढ़ावा देगी।

एनएसएम के तहत, अब तक पूरे देश में 24 पेटाफ्लॉप की गणना क्षमता वाले 15 सुपर कंप्यूटर स्थापित किए जा चुके हैं। इन सभी सुपर कंप्यूटरों का निर्माण भारत में किया गया है और यह स्वदेशी रूप से विकसित सॉफ्टवेयर स्टैक के साथ काम कर रहे हैं।





Source link

Continue Reading
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Copyright © 2017 राजेश सिन्हा . भारतीय वायुसेना में सेवा का अनुभव है .

%d bloggers like this: