Connect with us

Defence News

जिनेवा में संयुक्त राष्ट्र कार्यालय के लिए ‘मेड इन इंडिया’ नेविगेशनल ऐप भारत की तकनीकी क्षमताओं को प्रदर्शित करता है: जयशंकर

Published

on

(Last Updated On: June 15, 2022)


नई दिल्ली: विदेश मंत्री एस जयशंकर ने जिनेवा (यूएनओजी) में संयुक्त राष्ट्र कार्यालय में इस्तेमाल किए जाने वाले ‘वे फाइंडिंग एप्लिकेशन’ – एक ‘मेड इन इंडिया’ नेविगेशनल एप्लिकेशन की सराहना की है और कहा है कि ऐप ने भारत की तकनीकी क्षमताओं और देश की सॉफ्ट पावर को एक के रूप में प्रदर्शित किया है। वैश्विक सॉफ्टवेयर प्रदाता।

विशेष रूप से, प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में केंद्रीय मंत्रिमंडल ने आज पालिस डेस नेशंस, यूएनओजी में उपयोग किए जाने वाले ‘वे फाइंडिंग एप्लिकेशन’ पर भारत सरकार और संयुक्त राष्ट्र के बीच एक समझौते पर हस्ताक्षर करने के प्रस्ताव को मंजूरी दे दी।

जिनेवा में संयुक्त राष्ट्र कार्यालय में इमारतों की जटिलता और विभिन्न बैठकों और सम्मेलनों में भाग लेने के लिए बड़ी संख्या में प्रतिनिधियों, नागरिक समाज के सदस्यों और आम जनता की भारी भागीदारी को ध्यान में रखते हुए, एक नौवहन आवेदन की आवश्यकता थी जो सभी सुरक्षा दृष्टिकोणों का पालन करते हुए आगंतुकों और अन्य प्रतिनिधियों को परिसर के अंदर अपना रास्ता खोजने में मदद कर सकते हैं।

संयुक्त राष्ट्र (यूएन) 1945 में स्थापित एक अंतरराष्ट्रीय संगठन है। यह वर्तमान में 193 सदस्य राज्यों से बना है। भारत संयुक्त राष्ट्र का संस्थापक सदस्य है। यूएनओजी, पांच इमारतों और 21 मंजिलों से युक्त, ऐतिहासिक पालिस डेस नेशंस में स्थित है।

जबकि ग्लोबल पोजिशनिंग सिस्टम (जीपीएस) आधारित ऐप्स खुले स्थान में कार्य करते हैं, एक अधिक सटीक इन-बिल्डिंग नेविगेशनल ऐप आगंतुकों को कमरे और कार्यालयों का पता लगाने में सहायता करेगा।

‘वे फाइंडिंग एप्लिकेशन’ के विकास की परियोजना की परिकल्पना भारत सरकार की ओर से 2020 में इसकी 75वीं वर्षगांठ के अवसर पर संयुक्त राष्ट्र को दान के रूप में की गई है। ऐप के विकास परिनियोजन और रखरखाव के लिए अनुमानित वित्तीय निहितार्थ यूएसडी 2 है। दस लाख।

इस परियोजना में UNLG के पैलेस डेस नेशन्स परिसर में नेविगेशन की सुविधा के लिए एक सॉफ्टवेयर-आधारित ‘वे फाइंडिंग एप्लिकेशन’ का विकास, परिनियोजन और रखरखाव शामिल है।

एप्लिकेशन यूएनओजी की पांच इमारतों में फैली 21 मंजिलों के भीतर उपयोगकर्ताओं को बिंदु से बिंदु तक अपना रास्ता खोजने में सक्षम करेगा। ऐप इंटरनेट कनेक्शन के साथ एंड्रॉइड और आईओएस डिवाइस पर काम करेगा।

एक प्रेस बयान के अनुसार, ऐप के विकास को दूरसंचार विभाग (DoT), भारत सरकार के एक स्वायत्त दूरसंचार अनुसंधान एवं विकास केंद्र, सेंटर फॉर डेवलपमेंट ऑफ टेलीमैटिक्स (C-DoT) को सौंपा गया है।

यह परियोजना भारत सरकार की ओर से संयुक्त राष्ट्र में एक महत्वपूर्ण योगदान होगी। यह परियोजना न केवल भारत की तकनीकी क्षमताओं को उजागर करेगी बल्कि संयुक्त राष्ट्र स्तर के मंच पर देश की प्रतिष्ठा को भी बढ़ाएगी।

ऐप संयुक्त राष्ट्र में भारत की उपस्थिति को महसूस कराएगा और मजबूत सॉफ्टवेयर प्रौद्योगिकी विशेषज्ञता के रूप में अपनी सॉफ्ट पावर का प्रदर्शन करेगा – दुनिया भर से आने वाले मोबाइलों में ‘मेड इन इंडिया’ ऐप।





Source link

Continue Reading
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Copyright © 2017 राजेश सिन्हा . भारतीय वायुसेना में सेवा का अनुभव है .

%d bloggers like this: