Connect with us

Defence News

चीन अपना सबसे बड़ा वाहक लॉन्च करने के करीब एक कदम आगे बढ़ता है

Published

on

(Last Updated On: June 10, 2022)


नई दिल्ली: चीन अपने अब तक के सबसे बड़े और सबसे उन्नत विमानवाहक पोत ‘टाइप-003’ को लॉन्च करने से एक कदम दूर है। लॉन्च के बाद आउटफिटिंग और परीक्षणों की एक श्रृंखला होगी। वाहक को चालू होने में दो साल तक का समय लग सकता है।

एक विमानवाहक पोत किसी भी नौसेना के बेड़े में सबसे बड़ा युद्धपोत है और यह समुद्र के बीच में तैरते हुए अपने डेक से लड़ाकू जेट लॉन्च कर सकता है। यूएस थिंक-टैंक सेंटर फॉर स्ट्रैटेजिक एंड इंटरनेशनल स्टडीज (CSIS) द्वारा एक्सेस की गई और सार्वजनिक डोमेन में रखी गई सैटेलाइट इमेजरी से पता चलता है कि युद्धपोत वर्तमान में जियांगन शिपयार्ड में लॉन्च करने के लिए तैनात था।

चीन के पास दो परिचालन वाहक हैं। दिसंबर 2016 में, चीन ने अपने ‘आगमन’ की घोषणा की, जब उसके पहले वाहक, सीएनएस लियाओनिंग ने अपना पहला अभ्यास किया। तीन साल बाद दिसंबर 2019 में, इसने एक और वाहक, सीएनएस शेडोंग को चालू किया।

अमेरिकी रक्षा विभाग की रिपोर्ट, ‘मिलिट्री एंड सिक्योरिटी डेवलपमेंट्स इनवॉल्विंग द पीपुल्स रिपब्लिक ऑफ चाइना 2021’ कहती है, “पीपुल्स रिपब्लिक ऑफ चाइना एक बहु-वाहक बल का निर्माण जारी रखे हुए है। पीएलए की अगली पीढ़ी के कैरियर में अधिक सहनशक्ति और एक गुलेल प्रणाली होगी।

प्रक्षेपण के लिए निर्धारित वाहक में अधिक सहनशक्ति होगी और एक गुलेल प्रक्षेपण प्रणाली होगी जो विभिन्न प्रकार के लड़ाकू जेट और इसके डेक से लॉन्च किए जाने वाले प्रारंभिक चेतावनी विमानों को लॉन्च करने में सक्षम होगी।

भारत अगस्त 2022 तक अपने दूसरे वाहक आईएनएस विक्रांत को चालू करने के लिए तैयार है, पहला आईएनएस विक्रमादित्य है। भारत और चीन के अलावा, जापान और दक्षिण कोरिया अपने बेड़े में वाहक जोड़ रहे हैं। जापानियों के पास जेएस इज़ुमो है, जो 248 मीटर लंबा युद्धपोत है, जो लड़ाकू जेट उड़ा सकता है। इसमें एक और जोड़ा जा रहा है, JS Kaga।

दक्षिण कोरिया की 2030 तक एक बड़े डेक वाले उभयचर-युद्ध जहाज को लॉन्च करने की योजना है जो अपने डेक से लड़ाकू विमानों को संभालने की क्षमता रखेगा।

‘टाइप 003’ के दो साल में सेट होने की संभावना

‘टाइप 003’ चीन का सबसे बड़ा और सबसे उन्नत वाहक है

सैटेलाइट इमेजरी जियांगन शिपयार्ड में लॉन्च करने के लिए तैनात युद्धपोत को दिखाती है

चीन के पास दो परिचालन वाहक हैं – सीएनएस लिओनिंग और सीएनएस शेडोंग

भारत अगस्त 2022 तक अपना दूसरा कैरियर चालू करने के लिए तैयार है





Source link

Continue Reading
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Copyright © 2017 राजेश सिन्हा . भारतीय वायुसेना में सेवा का अनुभव है .

%d bloggers like this: