Connect with us

Defence News

कराची मिनीबस हमले के बाद पाकिस्तान में चीनी विश्वास ‘गंभीर रूप से हिल गया’

Published

on

(Last Updated On: May 8, 2022)


इस्लामाबाद: कराची में एक मिनीबस पर हुए भीषण हमले के बाद, देश में चीनी कामगारों की रक्षा करने की पाकिस्तान की क्षमता पर चीन का विश्वास ‘गंभीर रूप से हिल गया’ है।

यह 26 अप्रैल को पाकिस्तान के कराची विश्वविद्यालय के परिसर के अंदर एक कार विस्फोट में अपनी जान गंवाने वाले तीन चीनी नागरिकों और एक पाकिस्तानी वैन चालक की हत्या के मद्देनजर आया है।

पाकिस्तानी मीडिया आउटलेट डॉन के साथ बातचीत में, सीनेट रक्षा समिति के अध्यक्ष सीनेटर मुशाहिद हुसैन ने कहा, “पाकिस्तान की सुरक्षा प्रणाली में अपने नागरिकों और उनकी परियोजनाओं की रक्षा करने की क्षमता में चीनी विश्वास गंभीर रूप से हिल गया है।”

उन्होंने कहा, “इससे चीन में गंभीर चिंता और समझ में आने वाला आक्रोश पैदा हुआ है। इससे भी अधिक, हमलों का पैटर्न इतना आवर्ती है और यह स्पष्ट है कि ‘फूल प्रूफ सुरक्षा’ के पाकिस्तानी वादे केवल शब्द हैं, जो जमीन पर जवाबी कार्रवाई से मेल नहीं खाते हैं।”

उन्होंने अकर्मण्य होने के लिए पाकिस्तान की सुरक्षा व्यवस्था की आलोचना की। सीनेट डिफेंस ने कहा कि ऐसा लगता है कि सुरक्षा एजेंसियां ​​झपकी ले रही हैं।

उन्होंने कहा, “अगर इस तरह के हमले जारी रहते हैं, तो न केवल चीनी बल्कि अन्य विदेशी निवेशक पाकिस्तान में अपनी भूमिका की समीक्षा करने के लिए मजबूर होंगे।”

उन्होंने घातक हमले के बाद चीनी पक्ष के मूड को साझा करते हुए ये टिप्पणी की। इससे पहले, सीनेटर मुशाहिद ने पिछले महीने विश्वविद्यालय के परिसर में उनकी वैन पर आत्मघाती हमले में तीन चीनी लोगों के मारे जाने पर संवेदना व्यक्त करने के लिए पिछले सप्ताह चीनी दूतावास में एक सीनेट प्रतिनिधिमंडल का नेतृत्व किया।

मीडिया पोर्टल के अनुसार, एक साल में पाकिस्तानी धरती पर चीनी नागरिकों पर यह तीसरा आतंकवादी हमला है।

सोशल मीडिया पर प्रसारित कई रिपोर्टों के अनुसार, चीनी कार्यकर्ता हमलों के बाद पाकिस्तान छोड़ रहे हैं। हालांकि, एक चीनी सूत्र ने “पलायन” के इन दावों का खंडन किया।

मारे गए तीन चीनी व्यक्ति कन्फ्यूशियस संस्थान के प्रोफेसर थे। संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद (यूएनएससी) ने भी हमले की निंदा की है।





Source link

Continue Reading
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Copyright © 2017 राजेश सिन्हा . भारतीय वायुसेना में सेवा का अनुभव है .

%d bloggers like this: