Connect with us

Defence News

इसरो का कहना है कि भारत का स्वदेशी अंतरिक्ष यान जल्द ही फिर से उड़ान भरेगा और चलकारे में डिफेंस रनवे पर उतरेगा

Published

on

(Last Updated On: May 27, 2022)


भारतीय अंतरिक्ष एजेंसी ‘स्वदेशी अंतरिक्ष शटल’ के रूप में वर्णित किए जा सकने वाले एक छोटे-छोटे संस्करण का परीक्षण करने के लिए तैयार हो रही है। इसरो के अनुसार इसे ‘पुन: प्रयोज्य प्रक्षेपण यान’ या आरएलवी कहा जाता है।

सब कुछ ठीक रहा तो यह कर्नाटक के चल्लकेरे में साइंस सिटी के ऊपर से उड़ता हुआ दिखाई देगा, जहां पहले लैंडिंग प्रयोग की योजना बनाई जा रही है।

इसरो के अध्यक्ष एस सोमनाथ कहते हैं, “हम बहुत कम बजट, कम लागत और कम निवेश के साथ पुन: प्रयोज्य रॉकेट प्रौद्योगिकी पर चुपचाप काम कर रहे हैं।”

इससे पहले अमेरिका और रूस ने पूर्ण पंखों वाले अंतरिक्ष यान उड़ाए हैं। रूस/यूएसएसआर ने 1988 में केवल एक बार ‘बुरान’ नाम से अपना वाहन उड़ाया था लेकिन तब कार्यक्रम स्थगित कर दिया गया था। यूएसए ने स्पेस शटल की 135 उड़ानें भरीं और 2011 में यह समाप्त हो गई।

तब से, अमेरिका, चीन और भारत ही ऐसे देश हैं जिनके पास पुन: उपयोग योग्य रॉकेट विकास का एक सक्रिय कार्यक्रम है। यदि सब कुछ ठीक रहा, तो भारत में पुन: प्रयोज्य लॉन्च वाहनों का पूर्ण परीक्षण केवल 2030 के दशक में हो सकता है।

स्पेस एक्स द्वारा किए गए रॉकेट चरण पुनर्प्राप्ति प्रयोगों की तुलना में इसरो की पुन: प्रयोज्यता कहीं अधिक जटिल है, यही कारण है कि इसे पूरी तरह से मास्टर करने में समय लगेगा।

नई चिड़िया का वजन करीब चार टन होगा और इसे हेलिकॉप्टर से आसमान में फहराया जाएगा और फिर इसे करीब तीन किलोमीटर की ऊंचाई से और रनवे से तीन किलोमीटर की दूरी से छोड़ा जाएगा.

सोमनाथ कहते हैं, “वाहन को फिर नेविगेट करना, ग्लाइड करना और सफलतापूर्वक चलाकरे में रक्षा रनवे पर बिना पायलट और स्वायत्तता से उतरना पड़ता है।”

स्केल-डाउन संस्करण का उपयोग करने वाले इस प्रयोग को पुन: प्रयोज्य लॉन्च व्हीकल – लैंडिंग प्रयोग या RLV – LEX कहा जाता है। यह अनिवार्य रूप से एयरफ्रेम के वायुगतिकी को समझने के लिए एक एयरड्रॉप परीक्षण है जिसे इसरो द्वारा इन-हाउस विकसित किया गया है।





Source link

Continue Reading
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Copyright © 2017 राजेश सिन्हा . भारतीय वायुसेना में सेवा का अनुभव है .

%d bloggers like this: